यूपी जीतने के लिए पाकिस्तान से युद्ध कर सकते हैं मोदी – मायावती

August 28, 2016 4:00 pm

बीएसपी की मुखिया मायावती ने मुलायम सिंह यादव के गढ़ आजमगढ़ से बीजेपी और राज्य की एसपी सरकार पर जमकर हल्ला बोला। उन्होंने उत्तर प्रदेश की सियासत को जितने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पाकिस्तान से युद्ध करवाने का भी आरोप लगाया, इस जोरदार हमले के दौरान उन्होंने रोहित वेमुला और उना कांड पर भी सवाल उठाए। मायावती ने कहा कि जिस केंद्र से दिल्ली की कानून-व्यवस्था नहीं संभल रही तो उत्तर प्रदेश को क्या संभालेंगे?

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पक्के मकान का वादा किया था, लेकिन मैं समझती हूं कि एक भी व्यक्ति को पक्का मकान नहीं मिला। दो साल तक उन्हें गोरखपुर में एम्स बनाने का ख्याल नहीं आया। दो साल से खाद बनाने का कारखाना बंद था। उत्तर प्रदेश की जनता ने इन्हें लोकसभा चुनाव में काफी सीटें जिताई लेकिन 10 फीसदी वादे भी पूरे नहीं किए गए। उन्होंने आगे कहा कि बीजेपी प्रदेश में सत्ता से बहुत दूर है इसलिए दूसरे मुद्दों की ओर बढ़ गई है। उन्होंने कहा, ‘हाल ही में कश्मीर में तिरंगा यात्रा निकाली गई। प्रधानमंत्री लाल किले से पाकिस्तान को ललकार रहे हैं। मैं जनता को सतर्क करना चाहती हूं कि ऐसी चर्चा चल रही है कि लोगों का ध्यान बांटने के लिए मोदी कश्मीर, आतंकवाद को मुद्दा बना पाकिस्तान से युद्ध करवा सकते हैं।’

Mayawati

मायावती ने आरोप लगाया कि केंद्र की बीजेपी सरकार केवल धन्ना सेठों और बड़े पूंजीपतियों के लिए काम कर रही है, उनका लाखों करोड़ों का कर्ज आसानी से केंद्र सरकार माफ कर देती है। पिछले तीन वर्षों में सरकारी बैंकों ने 1.14 लाख करोड़ कर्ज माफ कर दिया है। वहीँ छोटे किसानों और कारोबारी लोगों को कर्ज वसूली के लिए इतना परेशान किया जाता है कि वो आत्महत्या के लिए मजबूर हो जाते हैं। केंद्र की वर्तमान बीजेपी सरकार और पूर्व कांग्रेस सरकार किसानों की बुरी हालत के जिम्मेवार हैं। मायावती ने यह भी कहा कि जन-धन और अनेक पेंशन योजनाओं की शुरूआत भी धन्ना सेठों के लिए ही की गई। इसके साथ ही देश में बनने वाले स्मार्ट सिटी का फायद अमीर लोग उठाने वाले हैं। बुलेट ट्रेन भी मुंबई से अहमदाबाद चलाई जाएगी उसेमं भी अमीर लोग ही सफऱ करेंगे। इसी राशि से गरीब लोगों के लिए नई ट्रेन चलाई जा सकती थी।

मायावती ने कहा कि ‘आरएसएस के अजेंडे पर चल रही मोदी सरकार आरक्षण खत्म करना चाहती है।बाबा साहेब द्वारा मिले आरक्षण को धीरे-धीरे खत्म करने का प्रयास किया जा रहा है। महत्वपूर्ण मंत्रालयों के ज्यादातर काम प्राइवेट सेक्टर को दिए गए। प्राइवेट सेक्टर में आरक्षण न के बराबर है। बीजेपी शासित राज्यों में हीन और जातिवादी मानसिकता के कारण दलितों का शोषण हो रहा है। दलित वेमुला, दयाशंकर सिंह कांड, उना कांड इसके उदाहरण हैं। बाबा साहेब के स्मारकों आदि की घोषणा करने और कांग्रेस पार्टी की तरह दलितों के साथ खाने से उत्पीड़न कम नहीं होगा। इन सब मामलों में दलित औऱ अन्य पिछड़े वर्ग नरेंद्र मोदी की सहानुभूति नहीं दोषी लोगों के खिलाफ कार्रवाई चाहते हैं।’


Facebook Comments