मरने के बाद भी होती है ज़िन्दगी : रिसर्च

August 16, 2015 4:55 pm

life-after-death-1-1

मौत के बाद इंसान कैसा महसूस करता है इस बात का पता लगाने के लिए साउथैंप्टन यूनिवर्सिटी के रिसर्च साइंटिस्ट्स की एक टीम के द्वारा 15 अस्पतालों से उन मरीजों को चुना गया जिन्हें दिल का दौरा पड़ा था। साइंटिस्ट्स ने चार साल रिसर्च से निष्कर्ष निकलकि इनमें से करीब 40 पर्सेंट लोगों को उस वक्त भी होश था, जबकि क्लिनिकल तौर पर वह डेड करार दिए जा चुउके थे। हालांकि बाद में उनके दिल ने दोबारा काम करना शुरू कर दिया।

इनमें से एक शख्स को तो यहां तक याद है कि वह अपने शरीर से किस तरह बाहर आया और कमरे के एक कोने से अपने शरीर के साथ सबकुछ होता हुआ देख रहा था। साउथैंप्टन के सोशल वर्कर का कहना था कि बेहोशी और तीन मिनट तक डेड पड़े रहने के बाद भी मुझे अच्छी तरह याद है कि नर्सिंग स्टाफ मेरे आसपास क्या-क्या कर रहा था। इस शख्स को मशीनों की आवाज तक याद थी।

कमाल की बात तो यह है कि उस शख्स ने अपने आसपास हो रही हलचल के बारे में जो कुछ भी बताया वो सब सही निकला। यहां तक कि पास रखी मशीन हर तीन मिनट पर एक आवाज निकालती थी और उस मरीज ने उस मशीन से दो आवाजें सुनी। स्टडी को लीड करने वाले डॉ. सैम पर्निया के मुताबिक, उस शख्स की बात पर भरोसा करना ही होगा क्योंकि जो कुछ भी उसने बताया वह असल में उसके इर्द-गिर्द हो रहा था।

उनमें से कुछ मरीजों ने कहा कि हमने चमकीली रोशनी देखी, किसी ने तेज सुनहरी रोशनी या चमकता सूरज देखा। वहीं कुछ को डर या डूबने का अहसास हुआ था। डॉ. पर्निया मानते हैं कि कई और लोगों को भी मौत के करीब पहुंचने पर ऐसे अनुभव हुए होंगे मगर दवाओं के असर कारण शायद वे याद न रख पाएं हों।

Tags:

Facebook Comments